तीन लंड और चार चूत – सामूहिक चुदाई

दोस्तों में अपनी छोटी बहन संध्या (उम्र 20 साल) को रोज चोदने लगा था और अपनी माँ पुष्पा (उम्र 46 साल) को भी चोदता था. लेकिन अपनी माँ को थोड़ा कम चोद पाता था, क्योंकि वो ज़्यादातर अपने ऑफिस के बॉस से चुदवा कर ही वापस आती थी वहाँ उन्हें प्रमोशन और मुझसे बड़ा 9 इंच का लंड जो मिलता था। मैंने नेट पर एक नया दोस्त बनाया, उसका नाम संचित था और उसकी उम्र 22 साल थी, जो अपनी बहन रेनू (उम्र 25 साल) और माँ अनीता (उम्र 48 साल) को अपने बाप (उम्र 50 साल) के साथ चोदता था ।

फिर हमने फोन पर बातें की और फिर बाद में रेनू ने संध्या से और मेरी माँ ने उसकी माँ से भी चुदाई की बातें की, तभी उसके बाप ने मेरी माँ से फ़ोन पर कहा बहन जी, आप तो हमारी फेमिली के बारे में जान ही चुकी हैं और हमें भी राज ने संध्या और आपके बारे में बता दिया है, तो क्यों ना हम एक दिन मिल कर दोनों परिवार खुशियाँ मनायें, खूब जमेगा रंग जब मिल बैठेंगे 2 परिवारों के 3 लंड और 4 चूत।

माँ : भाई साहब मुझे कुछ सोचने का समय दीजिये।

संचित के पापा : जितना मर्ज़ी समय लीजिये, लेकिन भाई साहब ना कहिये, मेरा तो जानेमन तुम्हारी आवाज़ सुनकर ही खड़ा हो गया है। संचित, राज, संध्या सब आपस में बात कर चुके हैं मेरी बीवी अनीता, तो कब से अपने नये बेटे राज से चुदवाने को मचल रही है। आप भी तो अपने बेटे राज को अपना पति मान चुकी हैं और मैंने सुना है संध्या तो आजकल आपको घर में भाभी कहकर बुलाती है। आप ये कहानी अन्तर्वासना स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

माँ : ह्म्‍म्म्म…यह बात है तो आपके लंड महाराज की तो सेवा करनी ही पड़ेगी, ठीक है, जैसी आप सबकी मर्ज़ी, में राज से बात करके फाइनल तारीख तय करके आपको बताती हूँ।

संचित के पापा : अपनी बेटी को मेरे लंड का सलाम देना, थैंक्स जानेमन।

माँ : बाय डियर।

यह कहकर माँ ने फ़ोन रख दिया। माँ ने जब सारी बात मुझे और संध्या को बताई, तो हम खुशी के मारे उछल पड़े और हम दोनों भाई-बहन ने माँ का मुँह चूम लिया। फिर संध्या ने जींस के ऊपर से ही मेरे आधे खड़े लंड को सहलाना शुरू कर दिया और फिर शुरू हो गया चुदाई का एक नया दौर।

फिर मैंने संध्या की चूत मारी और उसने माँ की चूत को चाट कर शांत किया और चुदाई के बाद माँ बोली कि अगले शनिवार का दिन ठीक रहेगा, वो शाम को आकर हमारे साथ ही रात गुज़ार लेंगे और फाइनल प्रोग्राम बना कर मैंने संचित को फ़ोन कर दिया कि शनिवार शाम को 8 बजे तक हमारे घर पहुँच जाना।

फिर हमने नंगे बैठ कर ही फाइनल प्रोग्राम बनाया और फिर प्रोग्राम के अनुसार वो लोग शनिवार को ठीक टाइम से 15 मिनट पहले ही पहुँच गये और वो साथ में 2 वाईन की बोतल और खाना पैक करवा कर लाये थे, जैसे ही डोर बेल बजी संध्या ने भाग के गेट खोला और संचित को देखते ही उसने उसे हग किया और लिप किस किया।

संचित के पापा जिनका नाम अनिल था, उन्होंने संध्या को गोद में उठा लिया और पीछे से उसकी गांड को मसलते हुए अंदर ले आये। अंदर आते ही मैंने सबकी आपस में पहचान करवाई, जैसे ही मैंने दोनों माँ को आपस में मिलवाया तो वो आपस में लिप किस करके गले मिली और कहा कि मुबारक हो आपको यह नये लंडो की मस्ती और ये बोल कर दोनों हंसने लगी।

फिर संध्या और रेनू ने भी किस किया, फिर संध्या ने रेनू का हाथ पकड़कर मेरी पेंट की चैन पर रख दिया और बोली यह लो रेनू आपका वेलकम गिफ्ट, रेनू बोली माल तो बड़ा ही ज़बरदस्त लग रहा है। उधर संचित के पापा माँ के बूब्स दबा रहे थे, संचित पीछे से माँ की पीठ पर किस कर रहा था। आप ये कहानी अन्तर्वासना स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

फिर संचित की माँ अनीता बोली अरे रुको पहले डिनर तो कर लो, पूरी रात अपनी है, जमकर मस्ती करना। फिर मेरी माँ भी बोली हाँ यही ठीक रहेगा। फिर माँ, अनीता आंटी, संध्या और रेनू सभी किचन में चले गये। हमने ड्रॉइग रूम की टीवी पर एक ब्लू फिल्म लगा ली, उसमें 2 कपल की चुदाई का सीन चल रहा था।

फिर संचित बोला कि यार राज हम तो बाप बेटा आपस में खुले हुए हैं तुझे कोई प्रोब्लम तो नहीं है ना? नहीं यार संचित में भी अपनी माँ की चूत तक लंड चूस कर ही पहुंचा हूँ।

संचित : वो कैसे?

में : मेरी माँ के बॉस माँ को खूब चोदते थे। जब कहीं जगह नहीं मिलती थी तो घर में ही माँ की बैंड बजाने लगे। जब मुझे पता चला तो वो बोले तू भी कर ले, ये माँ की मज़बूरी थी या वासना पता नहीं पर वो दो चार बार नाटक करके मान गयी।

फिर बॉस ने एक शर्त रखी कि मुझे उनका लंड चूस कर अपनी माँ की चूत में डालना पड़ेगा। पहले तो अजीब लगा। फिर कुछ दिन के बाद मुझे लंड चूसने में मज़ा आने लगा। माँ की चूत से बॉस की मलाई खाने में तो जन्नत का मज़ा आता है।

संचित : वाऊऊउ।

यह कह कर संचित और उसके पापा ने अपने पजामे निकाल दिए। दोनों ने ही अन्दर अंडरवेयर नहीं पहना था। फिर मैंने भी अपने कपड़े और अंडरवेयर निकाल दिया, तो ब्लू फिल्म में एक लड़का एक लड़की को चोद रहा था और दूसरा लड़का पहले लड़के को अपना लंड चुसवा रहा था और चुदने वाली लड़की दूसरी लड़की की गांड चाट रही थी।

कहानी जारी है ….. आगे की कहानी पढने के लिए निचे लिखे पेज नंबर पर क्लिक करे …

इस कहानी को WhatsApp और Facebook पर शेयर करें