चचेरी बहन के धासु बोबे देख चोदा

प्रेषक : सोनू,

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम सोनू है, चचेरी बहन के धासु बोबे देख चोदा इस कहानी को पढ़ने के लिए अपना औजार तैयार रखिये. में फैजाबाद का रहने वाला हूँ। अब में आपको ज्यादा बोर ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। में जब घर पर था तो तब मेरी कज़िन हमारे यहाँ पर रहने के लिए आई थी। फिर हम सभी ने उसका वेलकम किया और अब वो हमारे यहाँ पर रहने के लिए बहुत ही खुश थी। वो मेरी मम्मी को किचन में मदद करती थी और वो हमेशा मेरे लिए मेरे रूम में ब्रेकफास्ट लेकर आती थी और अब मेरे हमेशा लेट उठने की वजह से वो हमेशा मुझे परेशान करती थी।

फिर एक दिन में रूम में सो रहा था, तो तब वो चाय लेकर आई तो वो बहुत हंस रही थी। तो तब मैंने उससे पूछा कि क्या बात है? तू बहुत खुश है। तो तब वो बोली कि में खुश नहीं हूँ, तुम्हारी पेंट देखो। तो जब मैंने अपनी पेंट को देखा तो मैंने बहुत ही शर्म महसूस की, क्योंकि मेरी पेंट में मेरा लंड पूरा खड़ा था, यह नॉर्मल है, क्योंकि सुबह में हमेश लंड खड़ा हो जाता है।

फिर बाद में जब मैंने अपनी बेडशीट अपने ऊपर ले ली। तो तब वो बोली कि यह बहुत ही बड़ा है और यह कहकर वो चली गयी थी। यह सुनकर मेरी हिम्मत बहुत ही खुल गयी थी। फिर अगले दिन जब वो रूम में चाय देने आई। तब मैंने अपनी पेंट की चैन खोल रखी थी और मेरा लंड बाहर था, जिसे देखकर उसने हंसकर मुझे उठाया। अब में तो जाग ही रहा था।

फिर उसके बाद उसने कहा कि में इसको हाथ लगाऊँ? तो तब मैंने कहा कि हाँ। फिर उसने मेरा लंड ज़ोर से पकड़ लिया, इतना ज़ोर से कि मेरे मुँह से आवाज निकल गयी थी और फिर वो चली गयी। फिर उस दिन के बाद मैंने उसके बूब्स बहुत दबाए और अब वो भी बहुत ही मज़ा ले रही थी। फिर मैंने उसको चोदने की बहुत कोशिश की, लेकिन जॉइंट फेमिली की वजह से वो मेरे पास नहीं आ सकी और फिर उसके बाद में वो अपने घर चली गयी।

यह कहानी भी पढ़े : चचेरी बहन को चोद कर मज़ा लिया

फिर 1 महीने के बाद जब मेरे भाई की शादी थी इसलिए वो फिर से मेरे यहाँ पर रहने के लिए आई। अब उस वक़्त बहुत मेहमान थे इसलिए मम्मी ने कहा कि तुम इसे अपने रूम में सुला दो और तुम हॉल में जाकर सो जाओ, तो तब में हॉल में चला गया। फिर जब रात को मुझे नींद नहीं आई तो में रात को डर के मारे रूम में चला गया। अब घर में सभी सो रहे थे इसलिए किसी को भी पता नहीं चला कि में कहाँ हूँ? फिर में जैसे ही रूम में गया, तो वो जाग रही थी।

चचेरी बहन के धासु बोबे

फिर उसने धीरे से बोला कि मेरे पास आ जाओ। तो में चला गया, वो शादीशुदा नहीं थी इसलिए में डर रहा था कि में अगर उसे चोदूंगा तो बच्चा ठहर जाएगा, लेकिन में फिर भी हिम्मत करके उसके पास चला गया और जैसे ही उसके पास गया, तो वो नाइटी पहने हुए थी। फिर उसने अपने बूब्स बाहर निकाले और मुझसे कहा कि इनको चूसो। मैंने ऐसे बूब्स पहले कभी नहीं देखे थे, पिंक कलर के निपल जैसे किसी ने उसे नहीं चूसा हो।

फिर में बहुत देर तक उसको चूसता रहा। अब वो बहुत ही मधहोश हो गयी थी। फिर वो बोली कि अब नीचे चूसो। तो तब में नीचे गया। तो तब वो बोली कि तुम 69 की पोज़िशन में चूसो, ताकि में तुम्हारा लंड चूस सकूँ। अब उसके बाद में उसकी चूत को चूस रहा था और वो मेरे लंड को चूस रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने मेरा गर्म पानी उसके मुँह में ही छोड़ दिया और अब वो सब पी गयी थी। फिर थोड़ी देर के बाद वो भी झड़ गयी, लेकिन उसको मेरा लंड नहीं छोड़ना था।

अब वो मेरे लंड अपने मुँह में ही रखकर चूस रही थी। फिर बाद में जब में दूसरी बार तैयार हो गया। तब वो बोली कि अंदर डाल दो, बहुत खुजली होती है। तब में उससे ना बोला। तब वो बोली कि पानी तुम बाहर डाल देना। अब में डर रहा था, लेकिन मुझे मज़ा भी आ रहा था इसलिए में बेड पर उसके ऊपर आ गया और अंदर डालने के लिए ट्राई किया, लेकिन मेरा लंड उसकी चूत में नहीं जा रहा था।

फिर उसने क्रीम लाकर अपनी चूत पर लगाई और बोली कि अब डालो। तब मैंने जैसे ही ज़ोर से धक्का लगाया। तब वो चिल्ला पड़ी और बोली कि बहुत दर्द होता है। तो तब में रुक गया और अब उसकी चूत में से खून भी आना चालू हो गया था। लेकिन मैंने पहले से टिश्यू पेपर रखे थे, उससे साफ किया और फिर से ज़ोर से एक धक्का लगाया तो तब मेरा लंड अंदर चला गया।

तब उसने मुझे पीछे से धक्का दिया और रोने लगी और फिर थोड़ी देर के बाद वो शांत हो गयी थी। अब में उसके ऊपर आकर धक्के देने लगा था। अब उसको भी मज़ा आने लगा था। अब 15 मिनट के बाद ही मेरा पानी निकलने लगा था। तभी वो बोली कि जरा ज़ोर से मारो, ताकि मेरा भी पानी निकल जाए।

यह कहानी भी पढ़े : नए लंड से चुदवाने की बेचैनियाँ

अब में ज़ोर-ज़ोर से धक्के देने लगा था। अब उसने मुझे कमर से ज़ोर से पकड़ लिया था और बोली कि बस बहुत मज़ा आ रहा है। अब मेरा पानी भी निकल रहा था इसलिए मैंने तुरंत मेरा लंड बाहर निकाल दिया। फिर मैंने जैसे ही मेरे लंड को बाहर निकाला तो तब उसने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी थी।

अब मेरा पानी उसके मुँह में ही निकल गया था, जिसे वो चाटने लगी थी और कहने लगी कि आज बहुत मज़ा आया और फिर में अपनी जगह पर चला गया और फिर वो सो गयी। फिर हम दोनों को जब भी कोई मौका मिला तो तब हमने खूब चुदाई की और खूब मजा किया ।।

धन्यवाद …

सामूहिक चुदाई स्टोरीज पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे >>

इस कहानी को WhatsApp और Facebook पर शेयर करें
  • anup

    rugdo -rugdo jo bhi mil jaye uski chut -bhosdi me apna loda rugdo ..mut dekho kaun he bs masalke chuche -chuchia kurdo unki tutak -tutak -tutia . lekin unki ijajut ke bina bilkul nuhi .kyoki pyar se mile wohi parsad hota he .warna to sab paap hota he .wo maan jaye to fir riste nate kuchh nuhi he dunia me.kyuki tum tub bhi inkaar karoge to bhai use to chudwana hi he .fir wo bahur chudwayegi .tumahre hath se moka nikal jayega bs hath fir badnaami hi ayegi .ghur me chudai kurne me kuchh nuhi hota .ghur ki baat ghur me hi rehti he ….reply do… anup