दोनों एक दूसरे को गरम कर मुझसे चुदवाई

हे फ्रेंड्स, कहानी मेरी और हीना मेरी कज़िन्न के बीच मे प्यार की थी पर मेरा दिल उसकी दोस्त गौरी पर आया हुआ था तो……देखिए मैने कैसे गौरी को चोदा.
मैने उस रात हीना को खूब चोदा और तब मैने उसे बहोत प्यार भी किया. अब ऐसे ही काफ़ी टाइम तक ऐसे ही चलता रहा. मैं बस ऐसे ही खुश था और फिर मैने सोचा की अब तो मैं बात कर ही लेता हूँ.

हाँ मुझे ये तो पता था की वो गुस्सा तो करेगी ही पर ये भी पता था की मेरे काफ़ी कहने पर मान भी जाएगी. इसलये उस रात जब मैं उसको चोद रहा था तो मैने उससे कहा की मुझे गौरी बहोत पसंद है और मुझे उसकी चूत मारनी है.

हीना – तुम्हारे कहने का मतलब क्या है. तुम्हे मेरी चूत पसंद न्ही है क्या जो अब उसकी चूत मारनी है.

मैं – न्ही तुम ग़लत समझ रही हो और तुम ही देखो मैं तुम्हारे साथ शादी तो न्ही कर सकता और तुमने भी मेरे से चूत अपने मज़े के लिए चुड़वाई है तो तुम भी मान जाओ.

हीना – वैसे तुम कह तो ठीक रहे हो पर फिर भी मैं नही दिलाउंगी.

मैं- न्ही प्लीज़ ऐसे मत करो क्योकि मैं उसे बहोत पसंद करता हूँ और उसकी चूत मारना चाहता हूँ.

हीना – ठीक है पर तुम मुझसे एक प्रॉमिस करो की तुम मुझे चोदना बंद नही करोगे.

मैं – ठीक है मेरा ये प्रॉमिस है तुमसे, तुम इसकी टेन्षन ना लो.

अब मैं ये सुन कर काफ़ी खुश था और उधर गौरी को पट्टा कर हीना ने एक रात के लिए हमारे साथ सोने के लिए मना लोया था.

और फिर उसके बाद हम तीनो बेड पर लेट गये. मैं एक कोने मे था और बीच मे हीना थी और दूसरी तरफ गौरी थी. मैं जान बुझ कर सोने का नाटक कर रहा था और फिर उसके बाद वो दोनो बाते कर रहे थे.

गौरी -यार मेरा तो चूत मरवाने का बहोत मन करता है और तू अपने भाई को पता ले फिर देख हमे कितना मज़ा आएगा.

हीना – हाँ तुम सही कह रही हो.

गौरी और हीना एक दूसरे ले निप्प्प्ल को दबा कर मसल रही थी. मैं भी पागल हुआ जा रहा था और इधर मेरा लंड भी खड़ा हो रखा था और ये सब करते हुए वो दोनो नंगी हो गई और मैं भी अपने लंड को हीना की गांड पर रगड़ रहा था.

अब ऐसे ही वो एक दूसरे को गरम कर रही थी की तभी हीना को जब लगा की गौरी अब बिल्कुल तयार है तो उसने मुझसे कहा.

हीना – भाई आपका शिकार तयार है.

मैं ये सुन कर काफ़ी खुश हो गया पर गौरी को एक दम से धक्का लगा तो वो बोली – हीना तुम तो कह रही थी मैने कभी भाई के साथ सेक्स किया न्ही है.

हीना – गौरी इससे तो मैं डेली चुदति हूँ आज तो तुम्हारी बारी है और हीना के ये कहते ही मैं गौरी के उपर आ कर उसके होंठो को चूसना शुरू कर दिया. गौरी भी अब मेरा साथ दे रही थी और हम दोनो को काफ़ी ज़्यादा मज़ा आ रहा था.

उधर मैं तो नंगा था ही तो हीना भी मेरे लंड को मूह मे ले कर चूस रही थी. जिसकी वजह से मुझे और भी ज़्यादा मज़ा आ रहा था.

अब धीरे धीरे करके मैं गौरी के बूब्स चूसने लग गया था और फिर उसके बाद मैने उसले निप्पल को मूह मे ले कर काटना शुरू कर दिया जिससे की उसे दर्द हो रहा था और तो और उसे मज़ा भी आ रहा था.

ये देख कर बहुत मज़ा मुझे भी आ रहा था. अब मैं दोनो को लंबा लेटा कर उनकी चूत चाटने लग गया. मुझे दोनो की चूत चाटने मे बहोत ही ज़्यादा मज़ा आ रहा था और आप तो आइडिया लगा ही सकते हो की जब एक ही लौडे को दो-दो चूत मिल जाए तो क्या क्या होता है.

बस वही हाल मेरा था. और बस मैं उन दोनो की चूत को चाट चाट कर मज़े लिए जा रहा था और बस लिए जा राहा था. और फिर धीरे धीरे मैने अपने दोनो हाथो की एक एक उंगली उनकी चूत मे डाल दी और फिर ज़ोर से उंगली को उपर नीचे करने लग गया.

अब मैने थोड़ी ही देर ऐसे किया और फिर दोनो को बिठा कर अपना लंड एक एक करके चुसवाने लग गया. अब उसके बाद मैने हीना से कहा की तुम चूत को गौरी के मूह पर रखो और मैं इसे चोदुन्न्गा.

तो मेरे कहने पर बिल्कुल वैसे ही करने लगी और वो भी हीना की चुट को चाटने लग गई जिससे की मैं भी तयार हो गया और फिर मैने एक ज़ोर का धक्का दे दिया और फिर वो चिल्ला पड़ी. पर उसको आवाज़ भर न्ही आ पाई क्योकि वो हीना की चूत को चाट जो रही थी. और इधर मैं चोदे जा रहा था और बस चोदे ही जा रहा था.

मैने अब धीरे धीरे करके उसकी चूत मे सारा पानी डाल दिया और फिर ऐसे ही करके मैने थोड़ा और चोदा और फिर उसके बाद मैं वही पर लेट गया.

मैं थक गया था तो मेरा लंड भी सो गया था और फिर उसके बावजूद भी हीना मेरे लंड को मूह मे ले कर चूस रही थी और साथ ही साथ खा भी रही थी. मुझे ये बहोत ही अच्छा लग रहा था.

मैं भी अब जोश मे आ गया था और फिर मैने हीना की चूत को जम कर मारना शुरू कर दिया. उसे भी खूब मज़ा आ रहा था. और साथ ही साथ मैने दोनो को घोड़ी बना लिया और दोनो की चूत मे बारी बारी से लंड पेलने लग गया.

मैं तो आज बहोत ही ज़्यादा मज़े कर रहा था और खूब ऐश भी करे जा रहा था. ये काफ़ी देर तक करने के बाद अब मेरी दोनो की गांड पर नज़र पड़ी तो मैने अब दोनो की गांड पर क्रीम लगाई.

पहले तो दोनो ही मना कर रही थी पर मेरे ज़्यादा फोर्स करने पर वो मान गई. कमरे मे उनकी चीखने की आवाज़ ना सुने इसलिए मैने उनके मूह पर रुमाल बाँध दिया. और फिर उसके बाद मैने पहले ज़ोर से हीना की गांड मे लंड डाला और उसे चोदने लग गया.फिर मैने गौरी की गांड को चोदा और फिर ऐसे ही खूब मज़ा लिया। फिर हर बार मैं उन्हे बुला कर चोदता था.

इस कहानी को WhatsApp और Facebook पर शेयर करें